भारत का सबसे बड़ा संग्रहालय कौन सा है (In Hindi)~ Largest Museum in India

क्या आप जानते हैं भारत का सबसे बड़ा म्यूजियम कहां है और कोन सा है बहुत व्यक्ति यहीं बात को कन्फ्यूजन में रहता है । और म्यूजियम का अर्थ – संग्रहालय और एक दूसरा नाम अजायबघर कहा जाता है और एक स्थान पर जहां पर अजीबोगरीब चीजें देखने-सुनने को मिलती हैं। भारत का सबसे बड़ा म्यूजियम दुनिया का नौवा अस्थान माना जाता है और भारत का सबसे पुराना संग्रहालय हैं. और भारत का सबसे बड़ा संग्रहालय भी यही है। तो चलिए दोस्तों आज में इस टॉपिक पर ही बात करेंगे जानते हैं भारत के सबसे बड़े म्यूजियम के बारे में कुछ खास बातें। और इतिहासिक

1 भारत का सबसे बड़ा(largest) म्यूजियम इंडिया के लार्जेस्ट म्यूजियम का नाम है

भारत म्यूजियम या बोल सकते हैं या भारतीय संग्रहालय दोनों एक ही मना जाता है । यह कोलकाता में हैं और इसका उद्धरण हुआ था सन् 1814 में हुआ था। बहुत पहले जब यह बना था तब भारत में अंग्रेजों का शासन यानी राज था। उस वक्त भारतीय संग्रहालय को इंपीरियल म्यूजियम के नाम से भी पहचाना जाता था।

2. भारतीय म्यूजियम को किसने बनाया?

हमारे भारतीय म्यूजियम का निर्माण एशियाटिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल ने ही बनाया था। और इसका निर्माण नेथेलिन वैलीच की देखरेख में हुआ है. वैलिच तात्कालिक समय एशियाटिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल के अध्यक्ष भी थे।

3. म्यूजियम क्यों बनाया गया था

इस भारत म्यूजियम बनाने का श्रेय जाता है हमारे एशियाटिक सोसाइटी ऑफ़ बंगाल को। इसकी स्थापना सर विलियम जॉन्स ने की थी। और सर विलियम जॉन्स एक नेक और सेवाभावी व्यक्ति थे। उन्होंने अपना पुरे जीवन भारत की सेवा में समर्पित कर दिए थे। और उन्हीं में से एक पहल यह भी थी कि इस उदेश्य से भारत की संस्कृति और विरासत को एक जगह संग्रह किया गया था यानी‌ किया जाए ।

4. म्यूजियम का भौतिक रूप

भारत म्यूज़ियम छ दीर्घ वर्गों में बांटा दिया गया है. इन छह विभागों के नाम जैसे कि भारतीय कला, पुरातत्व, नृविज्ञान, भूविज्ञान, प्राणीशास्त्र और आर्थिक वनस्पतिशास्त्र। भूविज्ञान है ।

5. भारतीय म्यूजियम क्यों प्रसिद्ध हैं

भारत म्यूजियम में भारत की उन प्राचीन विरासतों को संग्रह में किया गया है और जो कि दुर्लभ और अद्भुत हैं. दुनिया के सबसे पुराने संग्रहालय में एक होने और कवच, कंकाल, मुगल-चित्र का अनूठा संग्रह है। इसलिए भारत के सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक मना जाता है ।

6. भारतीय संग्रहालय के तथ्य

भारती संग्रहालय एक बहुत ही बहुउद्देशीय संग्रहालय मना जाता हैं। इसमें एक बहुत ही खूबसूरत पुस्तकालय है। भारत म्यूजियम में केवल भारत का नहीं बल्कि पूरे एशिया का सबसे बड़ा म्यूजियम है। और भारत म्यूजियम ने भारतीय में बड़ी क्रांति का एक बीज भी बोया था। सन् 1814 में उसके बाद से लेकर अब तक 400 म्यूजियम का निर्माण हुआ है। और सबसे पहले इसकी शुरुआत भारतीय म्यूजियम से ही हुई थी। इसके बाद इंडियन म्यूजियम की उत्पत्ति और विकास को देखते हुए इतिहास को सराहने के लिए, और भारत की सेवा के लिए सर विलियम जॉन्स ने अपना पुरा जीवन समर्पित कर दिया। और भारतीय म्यूजियम विश्व का नौ वा सबसे ज्यादा पुराना म्यूजिक हो चुका है।

7. सरकारी संग्रहालय

पहला मद्रास संग्रहालय के रूप में भी प्रसिद्ध, सरकारी संग्रहालय एग्मोर में अस्थान में से एक है। और जो चेन्नई के सबसे व्यस्त स्थानों में से एक है। और यह सन् 1851 में स्थापित हुआ था। और इसका भूविज्ञान, प्राणी विज्ञान और नृविज्ञान और वनस्पति विज्ञान से संबंधित विभिन्न किस्मों को प्रदर्शित यहां करता है। और इस संग्रहालय में उत्कृष्ट दक्षिण भारतीय समय के साथ-साथ चालुक्य, चोल और विजयनगर के उत्कृष्ट खंड हैं। यहां बच्चों के लिए भी अलग सेक्शन के सुबिधा हैं। इसके अलावा, एक अच्छी तरह से स्टॉक की गई लाइब्रेरी में yesteryear से पुस्तकों के विभिन्न संग्रह में एक झलक देखने को मिलती है।

8. छत्रपति शिवाजी वास्तु संग्रहालय, मुंबई

मुंबई में (गेटवे ऑफ इंडिया छत्रपति शिवाजी वास्तु संग्रहालय) मुंबई के निकटता में स्थित, बिस वीं शताब्दी की शुरुआत में बनाया गया था। और इसमें तीन मुख्य खंड शामिल भी हैं जैसे कि पुरातत्व खंड, प्राकृतिक इतिहास अनुभाग और कला अनुभागव सभी है और प्रत्येक खंड में गुप्ता और चुल्यकस युग में वापस डेटिंग कला के विभिन्न प्रकार से काम दिखाया गया है।

9. शंकर अंतर्राष्ट्रीय डॉल्स संग्रहालय

भारत के राज्यधानी दिल्ली में विस्तृत और दूर से डॉल्स का सबसे बड़ा संग्रह प्रदर्शित करते हुए और शंकर के अंतर्राष्ट्रीय गुड़िया संग्रहालय में न्यूजीलैंड, अफ्रीका से भारत और ऑस्ट्रेलिया से 159 से ज्यादातर ग्लास मामलों को प्रदर्शित करने वाले दो खंड पाया जाता है। और इसके अलावा, डॉल्स के संग्रह को दो वर्गों में विभाजित किया गया है; एक खंड में न्यूजीलैंड, यूके, और दुसरे में यू एस ए, स्वतंत्र राज्यों के आम से एकत्र की गई गुड़िया शामिल हुई है। जबकि अन्य में मध्य पूर्व, भारत, एशियाई देशों और अफ्रीका से एकत्रित गुड़िया शामिल भी हैं। और विभिन्न देशों में प्रदर्शित होने वाला गुड़िया के अलावा, आगंतुकों को वेश-भूषा गुड़िया के विभिन्नता संग्रहालय, भारतीयों नृत्यों और परंपराओं, दुल्हनों और दूल्हे-दुल्हन के जोड़े आदि का प्रतिनिधित्व भी हो सकती हैं

10. सालार जंग संग्रहालय

भारत का बहुत ही बड़े शहर हैदराबाद में स्थित एक कला संग्रहालय और सालार जंग संग्रहालय में चीन, उत्तरी अमेरिका, मिस्र, नेपाल, यूरोप, बर्मा और भारत जैसे विभिन्न देशों के चित्रों, वस्त्रों, धातुओं की कला-कृतियों, घड़ियों और नक्काशीदार का संग्रहालय है। और इसमें भारतीयों संसदीय द्धारा राष्ट्रीयकरण महत्वपूर्ण के संस्थानों के रूप में स्वीकारा किया गया था। और शुक्रवार को सुबह 10 से शाम 5 बजे तक छोड़कर सारा दिन संग्रहालयों खुला मिलेगा ।

11. राष्ट्रीय रेल संग्रहालय

भारत का राष्ट्रीयकरण रेल संग्रहालयों में भारतीयों रेलवेज के 100 से ज्यादा वास्तविकता आकार के डिस्पले का शानदारी संग्रहालयों भी माना जाता है। और यह चाणक्यपुरी में 10 एकड़ क्षेत्रफल में स्थितियां भी है। और एक टॉयलेट ट्रेन है जो दैनिकों आधारित पर साईट की संवारी करतीं है। और फिर दृष्टि पर लगाए गए अन्य संग्रहालयों में से कुछ प्राचीनतम सामान्य, वर्किंग-डे मॉडलिंग, ऐतिहासिकता तस्वीरें, सिग्नलिंग टूर और बहुत कुछ हैं। और सोमवार को छोड़कर, बाकी दिन यानी हर दिन सुबह 9:30 से शाम 5:30 बजे तक संग्रहालयों का दौरान आप कर सकते हैं।

12. केलिको संग्रहालय

जैसे कि सब जानते है भारत का अहमदाबाद शहर के बारे में वहा भी सबसे अधिक प्रशंसित पर्यटनशील आकर्षणों में से एक, कैलिफोर्निया संग्रहालयों गौतमबुद्ध साराभाई और उनकी बहन जीरा और साराभाई द्वारा सन्1949 में शुरू किया गया फिर इसमें कपड़े के पूर्व-निर्धारित कपड़े के चरित्रों से लेकर भव्य भारतीयों कपड़ों तक का मन बहलाने वाला संग्रह हैं । और कैलिफोर्निया संग्रहालयों में प्रदर्शित कला के शानदारी भी काम से निश्चितता से रूप मोहित हो जाएगा। और जिन वस्त्रों को प्रदर्शित किया गया है, वे कभी एक प्राचीनतम सामान्य ज्ञान यानी कि काल के मुगल शासकों द्वारा उपयोगकर्ता किए जाते थे। और अधिकारियोंं द्वारा इन पर अच्छी तरह से ध्यानपूर्वक दिया जाता है।

13. डॉ. भाऊ दाजी लाड संग्रहालय

एक और प्राचीन संग्रहालयों जो 19 वीं शताब्दी के सजावटी कला संग्रहालय को प्रदर्शित करता है, और वह डॉ। भाऊ दाजी लाड संग्रहालयों को 2 मई सन् 1872 को भारत के सभी जनता के लिए खोला गया था और उस समय इसे विक्टोरियाज और अल्बर्टो संग्रहालयों के रूप में भी जाना जाता था। इस संग्रहालयों में प्रदर्शित कृतज्ञतापूर्वक और उन्नीसवीं शताब्दी में मुंंबई में जीवन का प्रतिबिंब है। कुछ संग्रहालयों में ऐतिहासिकता तस्वीरें, मिट्टीकरण के मॉडलिंग, नक्शे-कदम और पोशाकें शामिल हैं।

14. नेपियर संग्रहालय

आपलौग जानते होंगे कि भारत का 19 वीं शताब्दी में निर्मित, नेपियर्स संग्रहालयों केरल के राजधानी तिरुवनंतपुरम में स्थितियां के सबसे पुराना संग्रहालयों है। इसका नाम भगवान नेपियर्स से मिला है, जो मद्रास के वहां व्यक्ति राज्यपालों थे। इसमें कथकली कठपुतलियों के मॉडल, संगीतकार वाद्ययंत्र, केरल रथ और देवी-देवताओं की कांस्य मूर्तियों जैसे ऐतिहासिकता कला-कृतियों का एक बड़ा संग्रहालयों है। नेपियर्स संग्रहालयों का दौरा करने से केरल की समृद्धशाली संस्कृतियों और इतिहासकारों की झलकियां मिलेंगी।

Recent Topic

Pikashow App क्या है और Pikashow App Download कैसे करें?

पाकिस्तान की जनसंख्या कितनी है 2021 | Pakistan Ki Jansankhya Kitni Hai

फेसबुक पर लाइक और कमेंट कैसे बढ़ाएं (Latest Update)

हवाई जहाज़ से यात्रा करना चाहते हैं तो इस बात को जरूर ध्यान रखें ।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published.